• Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Top Rated Articles
  • Public TimeLine
  • News RSS Feeds
  • Chief Editor : Manilal B. Par |  Executive Editor : Bipul A. Singh
  • मासिक शिवरात्रि विशेष : Niru Ashra -Mumbai
    मासिक शिवरात्रि विशेष : Niru Ashra -Mumbai editor editor on Saturday, May 4, 2019 reviews [0]
    मासिक शिवरात्रि विशेष : Niru Ashra -Mumbai
    शिवरात्रि शिव और शक्ति के अभिसरण का विशेष पर्व है। हर माह की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि के नाम से जाना जाता है।
    अमांत पञ्चाङ्ग के अनुसार माघ माह की मासिक शिवरात्रि को महा शिवरात्रि कहते हैं। परन्तु पुर्णिमांत पञ्चाङ्ग के अनुसार फाल्गुन माह की मासिक शिवरात्रि को महा शिवरात्रि कहते हैं। दोनों पञ्चाङ्गों में यह चन्द्र मास की नामाकरण प्रथा है जो इसे अलग-अलग करती है। हालाँकि दोनों, पूर्णिमांत और अमांत पञ्चाङ्ग एक ही दिन महा शिवरात्रि के साथ सभी शिवरात्रियों को मानते हैं।
    पौराणिक कथा के अनुसार एक बार भगवान शिव अत्यंत क्रोधित हो गए। उनके क्रोध की ज्वाला से समस्त संसार जलकर भस्म होने वाला था किन्तु माता पार्वती ने महादेव का क्रोध शांत कर उन्हें प्रसन्न किया इसलिए हर माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को भोलेनाथ ही उपासना की जाती है और इस दिन को मासिक शिवरात्रि कहा जाता है।
    माना जाता है कि महाशिवरात्रि के बाद अगर प्रत्येक माह शिवरात्रि पर भी मोक्ष प्राप्ति के चार संकल्पों भगवान शिव की पूजा, रुद्रमंत्र का जप, शिवमंदिर में उपवास तथा काशी में देहत्याग का नियम से पालन किया जाए तो मोक्ष अवश्य ही प्राप्त होता है। इस पावन अवसर पर शिवलिंग की विधि पूर्वक पूजा और अभिषेक करने से मनवांछित फल प्राप्त होता है।
    अन्य भारतीय पौराणिक कथाओं के अनुसार महा शिवरात्रि के दिन मध्य रात्रि में भगवान शिव लिङ्ग के रूप में प्रकट हुए थे। पहली बार शिव लिङ्ग की पूजा भगवान विष्णु और ब्रह्माजी द्वारा की गयी थी। इसीलिए महा शिवरात्रि को भगवान शिव के जन्मदिन के रूप में जाना जाता है और श्रद्धालु लोग शिवरात्रि के दिन शिव लिङ्ग की पूजा करते हैं। शिवरात्रि व्रत प्राचीन काल से प्रचलित है। हिन्दु पुराणों में हमें शिवरात्रि व्रत का उल्लेख मिलता हैं। शास्त्रों के अनुसार देवी लक्ष्मी, इन्द्राणी, सरस्वती, गायत्री, सावित्री, सीता, पार्वती और रति ने भी शिवरात्रि का व्रत किया था।जो श्रद्धालु मासिक शिवरात्रि का व्रत करना चाहते है, वह इसे महा शिवरात्रि से आरम्भ कर सकते हैं और एक साल तक कायम रख सकते हैं। यह माना जाता है कि मासिक शिवरात्रि के व्रत को करने से भगवान शिव की कृपा द्वारा कोई भी मुश्किल और असम्भव कार्य पूरे किये जा सकते हैं। श्रद्धालुओं को शिवरात्रि के दौरान जागी रहना चाहिए और रात्रि के दौरान भगवान शिव की पूजा करना चाहिए। अविवाहित महिलाएँ इस व्रत को विवाहित होने हेतु एवं विवाहित महिलाएँ अपने विवाहित जीवन में सुख और शान्ति बनाये रखने के लिए इस व्रत को करती है।
    मासिक शिवरात्रि अगर मंगलवार के दिन पड़ती है तो वह बहुत ही शुभ होती है। शिवरात्रि पूजन मध्य रात्रि के दौरान किया जाता है। मध्य रात्रि को निशिता काल के नाम से जाना जाता है और यह दो घटी के लिए प्रबल होती है।
    शिवरात्रि पर रात्रि जागरण और पूजन का महत्त्व
    माना जाता है कि आध्यात्मिक साधना के लिए उपवास करना अति आवश्यक है। इस दिन रात्रि को जागरण कर शिवपुराण का पाठ सुनना हर एक उपवास रखने वाले का धर्म माना गया है। इस अवसर पर रात्रि जागरण करने वाले भक्तों को शिव नाम, पंचाक्षर मंत्र अथवा शिव स्रोत का आश्रय लेकर अपने जागरण को सफल करना चाहिए।
    उपवास के साथ रात्रि जागरण के महत्व पर संतों का कहना है कि पांचों इंद्रियों द्वारा आत्मा पर जो विकार छा गया है उसके प्रति जाग्रत हो जाना ही जागरण है। यही नहीं रात्रि प्रिय महादेव से भेंट करने का सबसे उपयुक्त समय भी यही होता है। इसी कारण भक्त उपवास के साथ रात्रि में जागकर भोलेनाथ की पूजा करते है।
    शास्त्रों में शिवरात्रि के पूजन को बहुत ही महत्वपूर्ण बताया गया है। कहते हैं महाशिवरात्रि के बाद शिव जी को प्रसन्न करने के लिए हर मासिक शिवरात्रि पर विधिपूर्वक व्रत और पूजा करनी चाहिए। माना जाता है कि इस दिन महादेव की आराधना करने से मनुष्य के जीवन से सभी कष्ट दूर होते हैं। साथ ही उसे आर्थिक परेशनियों से भी छुटकारा मिलता है। अगर आप पुराने कर्ज़ों से परेशान हैं तो इस दिन भोलेनाथ की उपासना कर आप अपनी समस्या से निजात पा सकते हैं। इसके अलावा भोलेनाथ की कृपा से कोई भी कार्य बिना किसी बाधा के पूर्ण हो जाता है।
    शिवपुराण कथा में छः वस्तुओं का महत्व
    बेलपत्र से शिवलिंग पर पानी छिड़कने का अर्थ है कि महादेव की क्रोध की ज्वाला को शान्त करने के लिए उन्हें ठंडे जल से स्नान कराया जाता है।
    शिवलिंग पर चन्दन का टीका लगाना शुभ जाग्रत करने का प्रतीक है। फल, फूल चढ़ाना इसका अर्थ है भगवान का धन्यवाद करना।
    धूप जलाना, इसका अर्थ है सारे कष्ट और दुःख दूर रहे।
    दिया जलाना इसका अर्थ है कि भगवान अज्ञानता के अंधेरे को मिटा कर हमें शिक्षा की रौशनी प्रदान करें जिससे हम अपने जीवन में उन्नति कर सकें।
    पान का पत्ता, इसका अर्थ है कि आपने हमें जो दिया जितना दिया हम उसमें संतुष्ट है और आपके आभारी हैं।
    भगवान गंगाधर की आरती
    ॐ जय गंगाधर जय हर जय गिरिजाधीशा।
    त्वं मां पालय नित्यं कृपया जगदीशा॥ हर...॥
    कैलासे गिरिशिखरे कल्पद्रमविपिने।
    गुंजति मधुकरपुंजे कुंजवने गहने॥
    कोकिलकूजित खेलत हंसावन ललिता।
    रचयति कलाकलापं नृत्यति मुदसहिता ॥ हर...॥
    तस्मिंल्ललितसुदेशे शाला मणिरचिता।
    तन्मध्ये हरनिकटे गौरी मुदसहिता॥
    क्रीडा रचयति भूषारंचित निजमीशम्।
    इंद्रादिक सुर सेवत नामयते शीशम् ॥ हर...॥
    बिबुधबधू बहु नृत्यत नामयते मुदसहिता।
    किन्नर गायन कुरुते सप्त स्वर सहिता॥
    धिनकत थै थै धिनकत मृदंग वादयते।
    क्वण क्वण ललिता वेणुं मधुरं नाटयते ॥हर...॥
    रुण रुण चरणे रचयति नूपुरमुज्ज्वलिता।
    चक्रावर्ते भ्रमयति कुरुते तां धिक तां॥
    तां तां लुप चुप तां तां डमरू वादयते।
    अंगुष्ठांगुलिनादं लासकतां कुरुते ॥ हर...॥
    कपूर्रद्युतिगौरं पंचाननसहितम्।
    त्रिनयनशशिधरमौलिं विषधरकण्ठयुतम्॥
    सुन्दरजटायकलापं पावकयुतभालम्।
    डमरुत्रिशूलपिनाकं करधृतनृकपालम् ॥ हर...॥
    मुण्डै रचयति माला पन्नगमुपवीतम्।
    वामविभागे गिरिजारूपं अतिललितम्॥
    सुन्दरसकलशरीरे कृतभस्माभरणम्।
    इति वृषभध्वजरूपं तापत्रयहरणं ॥ हर...॥
    शंखनिनादं कृत्वा झल्लरि नादयते।
    नीराजयते ब्रह्मा वेदऋचां पठते॥
    अतिमृदुचरणसरोजं हृत्कमले धृत्वा।
    अवलोकयति महेशं ईशं अभिनत्वा॥ हर...॥
    ध्यानं आरति समये हृदये अति कृत्वा।
    रामस्त्रिजटानाथं ईशं अभिनत्वा॥
    संगतिमेवं प्रतिदिन पठनं यः कुरुते।
    शिवसायुज्यं गच्छति भक्त्या यः श्रृणुते ॥ हर...॥
                               

      Comments
    » Not yet reviewed by any member. You can be the first one to write a review.
    
    » You must be logged in to post a comment