• Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Top Rated Articles
  • Public TimeLine
  • News RSS Feeds
  • Chief Editor : Manilal B. Par |  Managing Editor : Ranveer Singh
  • *श्रीमद्भगवद्गीता के ३८ अनमोल वचन !* : Maa Kusuma Giridher
    *भगवान श्रीकृष्ण के अनमोल विचार....☝🏼🌸*
    *श्रीमद्भगवद्गीता के ३८ अनमोल वचन !* :  Maa Kusuma Giridher editor editor on Wednesday, March 15, 2017 reviews [0]
    *श्रीमद्भगवद्गीता के ३८ अनमोल वचन !* 🙏🏼
    🌸📖🌸
    *भगवान श्रीकृष्ण के अनमोल विचार....☝🏼🌸*
    *श्रीमद्भगवद्गीता* एक ऐसा ग्रन्थ है जिसमे जीवन का पूरा सार दिया हुआ है. मनुष्य के जन्म लेने से मृत्यु के बाद के चक्र को *श्रीमद्भगवद्गीता* में विस्तार से बताया गया है. मनुष्य के सांसारिक माया – मोह से निकलकर मोक्ष की प्राप्ति का सूत्र गीता में मौजूद है.
    महाभारत के युद्ध में *श्री कृष्ण* ने अर्जुन के द्वारा पूरे संसार को ऐसा ज्ञान दिया जिसे अपनाकर कोई व्यक्ति इस संसार में परम सुख और शांति से अपना जीवन व्यतीत कर सकता है.
    *०१*: हमेशा आसक्ति से ही कामना का जन्म होता है.
    *०२*: जो व्यक्ति संदेह करता है उसे कही भी ख़ुशी नहीं मिलती.
    *०३*: जो मन को रोक नहीं पाते उनके लिए उनका मन दुश्मन के समान है.
    *०४*: वासना, गुस्सा और लालच नरक जाने के तीन द्वार है.
    *०५*: इस जीवन में कुछ भी व्यर्थ होता है.
    *०६*: मन बहुत ही चंचल होता है और इसे नियंत्रित करना कठिन है. परन्तु अभ्यास से इसे वश में किया जा सकता है.
    *०७*: सम्मानित व्यक्ति के लिए अपमान मृत्यु से भी बदतर होती है.
    *०८*: व्यक्ति जो चाहे वह बन सकता है अगर वह उस इच्छा पर पूरे विश्वास के साथ स्मरण करे.
    *०९*: जो वास्तविक नहीं है उससे कभी भी मत डरो.
    *१०*: हर व्यक्ति का विश्वास उसके स्वभाव के अनुसार होता है.
    *११*: जो जन्म लेता है उसकी मृत्यु भी निश्चित है. इसलिए जो होना ही है उस पर शोक मत करो.
    *१२*: जो कर्म प्राकृतिक नहीं है वह हमेशा आपको तनाव देता है.
    *१३*: तुम मुझमे समर्पित हो जाओ मैं तुम्हे सभी पापो से मुक्त कर दूंगा.
    *१४*: किसी भी काम को नहीं करने से अच्छा है कि कोई काम कर लिया जाए.
    *१५*: जो मुझसे प्रेम करते है और मुझसे जुड़े हुए है. मैं उन्हें हमेशा ज्ञान देता हूँ.
    *१६*: बुद्धिमान व्यक्ति ईश्वर के सिवा और किसी पर निर्भर नहीं रहता.
    *१७*: सभी कर्तव्यो को पूरा करके मेरी शरण में आ जाओ.
    *१८*: ईश्वर सभी वस्तुओ में है और उन सभी के ऊपर भी.
    *१९*: एक ज्ञानवान व्यक्ति कभी भी कामुक सुख में आनंद नहीं लेता.
    *२०*: जो कोई भी किसी काम में निष्क्रियता और निष्क्रियता में काम देखता है वही एक बुद्धिमान व्यक्ति है.
    *२१*: मैं इस धरती की सुगंध हूँ. मैं आग का ताप हूँ और मैं ही सभी प्राणियों का संयम हूँ.
    *२२*: तुम उस चीज के लिए शोक करते हो जो शोक करने के लायक नहीं है. एक बुद्धिमान व्यक्ति न ही जीवित और न ही मृत व्यक्ति के लिए शोक करता है.
    *२३*: मुझे कोई भी कर्म जकड़ता नहीं है क्योंकि मुझे कर्म के फल की कोई चिंता नहीं है.
    *२४*: मैंने और तुमने कई जन्म लिए है लेकिन तुम्हे याद नहीं है.
    *२५*: वह जो मेरी सृष्टि की गतिविधियों को जानता है वह अपना शरीर त्यागने के बाद कभी भी जन्म नहीं लेता है क्योंकि वह मुझमे समा जाता है.
    *२६*: कर्म योग एक बहुत ही बड़ा रहस्य है.
    *२७*: जिसने काम का त्याग कर दिया हो उसे कर्म कभी नहीं बांधता.
    *२८*: बुद्धिमान व्यक्ति को समाज की भलाई के लिए बिना किसी स्वार्थ के कार्य करना चाहिए.
    *२९*: जब व्यक्ति अपने कार्य में आनंद प्राप्त कर लेता है तब वह पूर्ण हो जाता है.
    *३०*: मेरे लिए कोई भी अपना – पराया नहीं है. जो मेरी पूजा करता है मैं उसके साथ रहता हूँ.
    *३१*: जो अपने कार्य में सफलता पाना चाहते है वे भगवान की पूजा करे.
    *३२*: बुरे कर्म करने वाले नीच व्यक्ति मुझे पाने की कोशिश नहीं करते.
    *३३*: जो व्यक्ति जिस भी देवता की पूजा करता है मैं उसी में उसका विश्वास बढ़ाने लगता हूँ.
    *३४*: मैं भूत, वर्तमान और भविष्य के सभी प्राणियों को जानता हूँ लेकिन कोई भी मुझे नहीं जान पाता.
    *३५*: वह सिर्फ मन है जो किसी का मित्र तो किसी का शत्रु होता है.
    *३६*: मैं सभी जीव – जंतुओ के ह्रदय में निवास करता हूँ.
    *३७*: चेतन व अचेतन ऐसा कुछ भी नहीं है जो मेरे बगैर इस अस्तित्व में रह सकता हो.
    *३८*: इसमें कोई शक नहीं है कि जो भी व्यक्ति मुझे याद करते हुए मृत्यु को प्राप्त होता है वह मेरे धाम को प्राप्त होता है.
    🌸 *ऊं नमो: भगवते वासुदेवाय* 🌸
    Jai Sri Krishna ji
                               

      Comments
    » Not yet reviewed by any member. You can be the first one to write a review.
    
    » You must be logged in to post a comment