• Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Top Rated Articles
  • Public TimeLine
  • News RSS Feeds
  • Chief Editor : Manilal B. Par |  Managing Editor : Ranveer Singh
  • ध्यान की विधियां By Hiran Vaishnav
    ध्यान की विधियां  By Hiran Vaishnav editor editor on Thursday, October 27, 2016 reviews [0]
    ध्यान की विधियां
    By Hiran Vaishnav
    Ahmedavad :
    ध्यान करने की अनेकों विधियों में एक विधि यह है कि ध्यान किसी भी विधि से किया नहीं जाता, हो जाता है। ध्यान की योग और तंत्र में हजारों विधियां बताई गई है। हिन्दू, जैन, बौद्ध तथा साधु संगतों में अनेक विधि और क्रियाओं का प्रचलन है। विधि और क्रियाएं आपकी शारीरिक और मानसिक तंद्रा को तोड़ने के लिए है जिससे की आप ध्यानपूर्ण हो जाएं। यहां प्रस्तुत है ध्यान की सरलतम विधियां, लेकिन चमत्कारिक।

    विशेष : ध्यान की हजारों विधियां हैं। भगवान शंकर ने माँ पार्वती को 112 विधियां बताई थी जो 'विज्ञान भैरव तंत्र' में संग्रहित हैं। इसके अलावा वेद, पुराण और उपनिषदों में ढेरों विधियां है। संत, महात्मा विधियां बताते रहते हैं। उनमें से खासकर 'ओशो रजनीश' ने अपने प्रवचनों में ध्यान की 150 से ज्यादा विधियों का वर्णन किया है।

    1- सिद्धासन में बैठकर सर्वप्रथम भीतर की वायु को श्वासों के द्वारा गहराई से बाहर निकाले। अर्थात रेचक करें। फिर कुछ समय के लिए आंखें बंदकर केवल श्वासों को गहरा-गहरा लें और छोड़ें। इस प्रक्रिया में शरीर की दूषित वायु बाहर निकलकर मस्तिष्‍क शांत और तन-मन प्रफुल्लित हो जाएगा। ऐसा प्रतिदिन करते रहने से ध्‍यान जाग्रत होने लगेगा।

    2- सिद्धासन में आंखे बंद करके बैठ जाएं। फिर अपने शरीर और मन पर से तनाव हटा दें अर्थात उसे ढीला छोड़ दें। चेहरे पर से भी तनाव हटा दें। बिल्कुल शांत भाव को महसूस करें। महसूस करें कि आपका संपूर्ण शरीर और मन पूरी तरह शांत हो रहा है। नाखून से सिर तक सभी अंग शिथिल हो गए हैं। इस अवस्था में 10 मिनट तक रहें। यह काफी है साक्षी भाव को जानने के लिए।

    3- किसी भी सुखासन में आंखें बंदकर शांत व स्थिर होकर बैठ जाएं। फिर बारी-बारी से अपने शरीर के पैर के अंगूठे से लेकर सिर तक अवलोकन करें। इस दौरान महसूस करते जाएं कि आप जिस-जिस अंग का अलोकन कर रहे हैं वह अंग स्वस्थ व सुंदर होता जा रहा है। यह है सेहत का रहस्य। शरीर और मन को तैयार करें ध्यान के लिए।

    4. चौथी विधि क्रांतिकारी विधि है जिसका इस्तेमाल अधिक से अधिक लोग करते आएं हैं। इस विधि को कहते हैं साक्षी भाव या दृष्टा भाव में रहना। अर्थात देखना ही सबकुछ हो। देखने के दौरान सोचना बिल्कुल नहीं। यह ध्यान विधि आप कभी भी, कहीं भी कर सकते हैं। सड़क पर चलते हुए इसका प्रयोग अच्छे से किया जा सकता है।

    देखें और महसूस करें कि आपके मस्तिष्क में 'विचार और भाव' किसी छत्ते पर भिनभिना रही मधुमक्खी की तरह हैं जिन्हें हटाकर 'मधु' का मजा लिया जा सकता है।

    उपरोक्त तीनों ही तरह की सरलतम ध्यान विधियों के दौरान वातावरण को सुगंध और संगीत से तरोताजा और आध्यात्मिक बनाएं। चौथी तरह की विधि के लिए सुबह और शाम के सुहाने वातावरण का उपयोग करें।
    ध्यान करने के लिए सबसे उपयुक्त विधि | dhyan ki vidhi
    -ध्यान में बैठने से पहले आपको सब कुछ शांत करना पड़ेगा, जैसे आसपास का वातावरण, आपका शरीर इत्यादि | आप किसी शांत जगह पर बैठकर आसपास के वातावरण को शांत कर सकते है लेकिन शरीर को शांत करके ध्यान मग्न होना थोडा मुश्किल होता है | जैसे कोई भी पूजा या हवन करने से पहले मन्त्र उपचार होता है जैसे अग्नि शांति, वायु शांति, वनस्पति शांति इत्यादि इसका मतलब यही होता है कि ब्रह्माण्ड में ये सब चीजों को शांत करने के बाद ही पुरे ब्रह्माण्ड में शांति बनायीं जा सकती है और परम आत्मा का वास हो सकता है उसी तरीके से आपको अपने शरीर की इन सब चीजों को शांत करना होगा तभी आप ध्यान कर सकते हो इसके लिए आप आसनों का प्रयोग कर सकते हो आसन करके आप पुरे शरीर को शिथिल करे जिससे भूमि, गगन, वायु, अग्नि, नीर जिन चीजों से ये शरीर बना है ये सब शांत हो जाते है और शरीर फिर आराम चाहता है उसके बाद फिर स्वांस को शांत करने के लिए आप अनुलोम विलोम योग करे जिससे आपकी स्वांस शांत होगी उसके बाद शरीर और स्वांस को शांत करने के बाद अपने मस्तिष्क को जाग्रत करने की जरुरत होती है उसके लिए आपको आपने मस्तिष्क को vibrate करना पड़ेगा उसके लिए आप आँख और कान को हाथ की अंगुलियों से बंद करके ॐ शब्द का उच्चारण करो ओ अक्षर को करीब आपनी स्वांस का 25% और म अक्षर को अपनी स्वांस का करीब 75% बोले इससे आपके मस्तिष्क में vibration जैसी क्रिया उत्पन्न होगी इसकी बजह से आपको आपने मस्तिष्क में हल्कापन महसूस होगा उसके बाद सीधे सीधे ध्यान मुद्रा में चले जाय तब आप सही से ध्यान कर पाएंगे ध्यान करते समय आप अपनी आँखों को बंद करके आँखों की पुतलियों को नाक के ठीक ऊपर की तरफ देखने की कोशिश करे जैसे ही आप ध्यान मुद्रा में जायेंगे आपको कुछ रंग दिखाई देंगे आप उन रंगों को आपने मस्तिष्क से सोचकर अपने आप से जोड़ने की कोशिश करे जैसे लाल रंग समझो कि ये आपके शरीर में रक्त संचार हो रहा है उसके बाद जैसे कुछ अन्धकार जैसा दिखाई दे तो समझो ये मेरे रक्त संचार के साथ मेरे शरीर में जो अशुद्धिया है वो है फिर ईश्वर से प्रार्थना करो कि हें परमात्मा जो आपका अंश आत्मा इस शरीर में वास करता है इस शरीर को शुद्ध करने में मदद करे और मेरे ऊपर सकारात्मक उर्जा प्रवाहित करे उसके बाद आपको हरा या सफ़ेद रंग दिखाई देना शुरू हो जायेंगे आप उनपर ही पूरा ध्यान लगाए कि बस परमात्मा आपके अन्दर सकारात्मक उर्जा प्रवाहित कर रहा है उसको ही ध्यान रखते हुए ध्यान लगाए फिर आप कुछ अलग जैसा महसूस करेंगे | करके देखो अच्चा लगता है !!!
    अत्यंत सरल ध्यान योग विधि |
    कैसे करें ध्यान?

    यह महत्वपूर्ण सवाल है। यह उसी तरह है कि हम पूछें कि कैसे श्वास लें, कैसे जीवन जीएं, आपसे सवाल पूछा जा सकता है कि क्या आप हंसना और रोना सीखते हैं या कि पूछते हैं कि कैसे रोएं या हंसे? सच मानो तो हमें कभी किसी ने नहीं सिखाया की हम कैसे पैदा हों। ध्यान हमारा स्वभाव है, जिसे हमने चकाचौंध के चक्कर में खो दिया है।
    ध्यान के शुरुआती तत्व-

    1. श्वास की गति
    2.मानसिक हलचल
    3. ध्यान का लक्ष्य
    4.होशपूर्वक जीना।
    उक्त चारों पर ध्यान दें तो तो आप ध्यान करना सीख जाएंगे।
    ध्यान योग की सरलतम विधियां | Easiest methods of yoga

    श्वास का महत्व :

    ध्यान में श्वास की गति को आवश्यक तत्व के रूप में मान्यता दी गई है। इसी से हम भीतरी और बाहरी दुनिया से जुड़े हैं। श्वास की गति तीन तरीके से बदलती है-
    1.मनोभाव
    2.वातावरण
    3.शारीरिक हलचल।
    इसमें मन और मस्तिष्क के द्वारा श्वास की गति ज्यादा संचालित होती है। जैसे क्रोध और खुशी में इसकी गति में भारी अंतर रहता है।श्वास को नियंत्रित करने से सभी को नियंत्रित किया जा सकता है। इसीलिए श्वास क्रिया द्वारा ध्यान को केन्द्रित और सक्रिय करने में मदद मिलती है।
    श्वास की गति से ही हमारी आयु घटती और बढ़ती है। ध्यान करते समय जब मन अस्थिर होकर भटक रहा हो उस समय श्वसन क्रिया पर ध्यान केन्द्रित करने से धीरे-धीरे मन और मस्तिष्क स्थिर हो जाता है और ध्यान लगने लगता है। ध्यान करते समय गहरी श्वास लेकर धीरे-धीरे से श्वास छोड़ने की क्रिया से जहां शरीरिक , मानसिक लाभ मिलता है,

    मानसिक हलचल :

    ध्यान करने या ध्यान में होने के लिए मन और मस्तिष्क की गति को समझना जरूरी है। गति से तात्पर्य यह कि क्यों हम खयालों में खो जाते हैं, क्यों विचारों को ही सोचते रहते हैं या कि विचार करते रहते हैं या कि धुन, कल्पना आदि में खो जाते हैं। इस सबको रोकने के लिए ही कुछ उपाय हैं- पहला आंखें बंदकर पुतलियों को स्थिर करें। दूसरा जीभ को जरा भी ना हिलाएं उसे पूर्णत: स्थिर रखें। तीसरा जब भी किसी भी प्रकार का विचार आए तो तुरंत ही सोचना बंद कर सजग हो जाएं। इसी जबरदस्ती न करें बल्कि सहज योग अपनाएं। Cont..next
                               

      Comments
    » Not yet reviewed by any member. You can be the first one to write a review.
    
    » You must be logged in to post a comment